अनुपमा 28 जुलाई 2021 रिटेन अपडेट : अनुपमा के फैसले से काव्या शॉक्ड!

अनुपमा रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

एपिसोड की शुरुआत पुलकित द्वारा साई की नब्ज चेक करने से होती है। पुलकित ने नोटिस किया कि साईं होश में आ रहा है। वह खुश होता है और आंसू भी बहाता है। साई पुलकित को देखती है और वह कहता है कि विराट ने उसके साथ जो कुछ भी किया वह उसके लिए उसे माफ नहीं करेगा। वह साई को सुझाव देता है कि उसकी वजह से लापरवाह न हो। तुम्हें उन लोगों के लिए अपना ख्याल रखने की ज़रूरत है जो तुम्हारी परवाह करते हैं और मुझे पता है कि तुम मजबूत हो। वह कहता है कि विराट अपराध बोध में है और अपने काम के लिए खुद को दंडित कर रहा है इसलिए साईं को उससे एक बार मिलना चाहिए। वह जाने वाला होता है लेकिन साई ने उसका हाथ पकड़ लिया।

साईं कहती है कि वह विराट का चेहरा दोबारा नहीं देखना चाहती। वह कहती है कि सिर्फ इसलिए कि उसने अजिंक्य को अपने कमरे में प्रवेश करने दिया, इसका मतलब यह नहीं है कि वह चरित्रहीन है। पुलकित उसे शांत होने के लिए कहता है। वह कहता है कि वह साईं को दर्द में नहीं देख सकता। साईं विराट के व्यवहार को याद करते हुए रोती है। विराट अश्विनी से कहता है कि पुलकित बाहर क्यों नहीं आ रहा है। मुझे उम्मीद है कि साई ठीक हो। वह साईं की हालत के लिए खुद को दोषी मानता है। अश्विनि कहती है कि उसे विराट जैसा बेटा पाकर गर्व महसूस होता था लेकिन आज उसने हद पार कर दी। निनाद ने भी कभी इतना गलत नहीं किया। निनाद अश्विनी से पूछता है कि मुझे हर चीज में क्यों घसीटती हो। अश्विनी कहती है कि मुझे बहस करने के लिए मजबूर मत करो। मानसी उन्हें बहस करने से रोकती है, क्योंकि ये अस्पताल है।

पाखी विराट को यह कहते हुए सांत्वना देती है कि वो एक पति की सामान्य प्रतिक्रिया थी जिसने अपनी पत्नी को अपने कमरे में एक अज्ञात लड़के के साथ देखा। विराट ने कुछ भी अस्वाभाविक नहीं किया इसलिए उसे बुरा नहीं लगना चाहिए। विराट कहता है कि एक महिला होने के नाते तुम मेरे कार्यों को कैसे सही ठहरा सकती हो, जब तुम्हे मेरे काम के खिलाफ बोलना चाहिए। मानसी ने पाखी से विराट को अकेला छोड़ने के लिए कहा। साईं कहती है कि उसके पास कोई उचित घर नहीं है, उसके पास कोई भी नहीं है जो उसे निस्वार्थ भाव से प्यार करता हो। साईं को अपने पिता की याद आती है जो एक ढाल की तरह उसकी रक्षा करते थे। पुलकित कहता है कि वह साईं के साथ है और उसे अकेला महसूस करने की जरूरत नहीं है। वह उसकी देखभाल करेगा। उसने कहा कि डिस्चार्ज होने के बाद साईं उसके घर जाएगी। वह सोचता है कि वह साईं को चोट पहुंचाने के लिए विराट को माफ नहीं करेगा।

सोनाली भवानी से कहती है कि उन्हें अब चले जाना चाहिए क्योंकि साईं को होश आ गया है। विराट ने पुलकित से पूछा साईं कैसी है? पुलकित कहता है कि इन सबके बाद भी तुम मुझसे साईं के बारे में बताने की उम्मीद कैसे कर सकते हो। पुलकित कहता है कि अगर हरिणी साईं की जगह होती, तो वह उस व्यक्ति को मार डालता जिसने उसकी बेटी को चोट पहुंचाई। पुलकित कहता है कि चव्हाण परिवार को साईं की स्थिति के बारे में जानने का कोई अधिकार नहीं है। साईं ने निस्वार्थ भाव से उनके लिए बहुत कुछ किया लेकिन बदले में उसे बैकलैश मिले। इसलिए, नकली औपचारिकताएं दिखाने की कोई जरूरत नहीं है। भवानी पुलकित से कहती है कि तुम इस तरह कैसे बात कर सकते हो। पुलकित कहता है कि उन्हें साईं की परवाह नहीं है, उसे ये पता है। इसलिए उन्हें नकली सहानुभूति दिखाने की जरूरत नहीं है।

अश्विनी पुलकित से साई के स्वास्थ्य के बारे में बताने का अनुरोध करती है। पुलकित कहता है कि घर में कुछ चुनिंदा लोग ही साईं की परवाह करते हैं। वह अश्विनी को बताता है कि साई अब ठीक है। विराट साई से मिलने वाला होता है लेकिन पुलकित उसे यह कहते हुए रोक देता है कि साई उसे नहीं देखना चाहती। भवानी पुलकित से कहती है कि विराट को उसकी पत्नी से मिलने से रोकने वाले तुम कौन होते हो? पुलकित कहता है कि विराट साईं का कानूनी पति है लेकिन अगर साईं उसे देखकर फिर से बीमार पड़ जाती है तो इसके लिए विराट जिम्मेदार होगा। अश्विनी पुलकित से साईं से एक बार मिलने देने का अनुरोध करती है।

पुलकित ने उसे यह कहने की अनुमति नहीं दी कि साई आराम कर रही है, वह एक गंभीर स्थिति से बाहर आई है। बाद में वह कहता है कि साई चव्हाण के साथ नहीं, उसके घर में रहेगी। इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि विराट भविष्य में उसे फिर से गलत नहीं समझेगा। इसलिए वह साईं की सुरक्षा के साथ जोखिम नहीं उठा सकता, न ही उसे अब चव्हाण पर भरोसा है। विराट कहता है कि आप ऐसा नहीं कर सकते लेकिन पुलकित कहता है कि मैं साईं का अभिभावक हूं और मैं ऐसा करूंगा। विराट बिखरा हुआ महसूस करता है और बेंच पर बैठ जाता है। मोहित कहता है कि यह परिवार साईं के लायक नहीं है।

प्रीकैप – निनाद ने विराट से कहा कि पाखी ने अजिंक्य को साईं के कमरे में जाने के लिए मजबूर किया था। विराट चौंक जाता है और कहता है कि अब उसे समझ आ रहा है इसके पीछे कौन है।