भोली बहू से लेकर बोल्ड बहु बनने तक कुछ यूँ तय किया भारतीय टेलीविजन की महिलाओं ने एक नया सफर!

पिछले कुछ वर्षों में भारतीय टेलीविजन की महिलाओं के चित्रण को एक उल्लेखनीय परिवर्तन की मिसाल बनते देखा गया है। डरी-सहमी और आज्ञाकारी बहुओं का दौर अब पीछे छूट रहा है क्योंकि आधुनिकता को ध्यान रखते हुए अब स्वतंत्र महिलाएं समाज को कई नए और चौकाने वाले उदाहरण पेश कर रही हैं। अब टेलीविजन पर दर्शकों को ज्यादातर भारतीय समाज की बदलती गतिशीलता और सशक्त महिलाओं की कहानियों को पेश करता है। इतना ही नहीं दर्शकों द्वारा भी इन कहानियों को बहुत पसंद किया जा रहा है चूँकि इन महिलाओं ने दर्शकों को मोहित करने में कोई कमी नहीं छोड़ी है। आइए इस अविश्वसनीय परिवर्तन पर करीब से नज़र डालें, जिसने अपने किरदार के माध्यम से वास्तविक जीवन की महिलाओं को समान रूप से सशक्त बनाया है।

अनुपमा – अनुपमा के रूप में रुपाली गांगुली का किरदार हमेशा से महिलाओं की प्रसंशनीय सूची में सबसे ऊपर है, जो महिलाओं की ताक़त और स्वतंत्रता का एक खरा उदाहरण है। एक बेचारी महिला की कहानी के विपरीत, जब अनुपमा को अपने पति की बेवफाई का पता चलता है तो वह टूटती नहीं है। इसके बजाय, वह साहसपूर्वक अपने लिए खड़ी होती है और अपने परिवार के कड़े विरोध के बावजूद भी तलाक फाइल करने के लिए एक साहसी कदम उठाती है।  अनुपमा एक ऐसा किरदार हैं जो न सिर्फ मजबूत है, बल्कि हर महिलाओं के लिए एक प्रेरक रोल मॉडल के रूप में काम करती है, उन्हें खुद के लिए वकालत करने और अपने सम्मान के लिए लड़ने के लिए प्रोत्साहित करती है। स्टार प्लस पर प्रसारित होने वाला यह असाधारण शो इस बात का उदाहरण है कि कैसे महिला पात्र परंपराओं को तोड़ सकती हैं और विपरीत परिस्थितियों में अपनी असली ताकत की खोज करती हैं।

   

काव्या – प्रियंका धवले द्वारा अभिनीत काव्या शर्मा, का किरदार बहुत उल्लेखनीय है जो जीवन की चुनौतियों के माध्यम से दर्शकों को बहुत सी सीख दे रही हैं। अपने पति के ना होने के बाद, काव्या ने अपने दिवंगत पति के घर में शांति बनाए रखने के लिए अविश्वसनीय सहस को प्रदर्शित किया है। हालांकि, चाचा-चाची की साजिश के चलते, काव्या और उसकी दादी के बीच बढ़ती दरार को और बढ़ा देते हैं, जो उनके संघर्षों को और बढ़ाते हैं। इन बाधाओं के बावजूद, काव्या हर विपरीत परिस्थितियों से ऊपर उठती है और चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करती है। उनका किरदार दर्शकों को प्रेरित करता है और उन्हें याद दिलाता है कि दृढ़ता और आंतरिक शक्ति से कुछ भी संभव है। ‘क्योंकि तुम ही हो’ के एपिसोड को देखना न भूलें, जो सोमवार से शनिवार, रात 9 बजे केवल शेमारू उमंग पर प्रसारित हो रहा है।

कथा – कथा एक सपोर्टिव परिवार के साथ रहने वाली एक विशिष्ट गृहिणी नहीं है, वह एक सिंगल माँ के रूप में सामने आती है जो कई चुनौतियों का सामना करने के बावजूद अपने बच्चे के लिए सब कुछ करती हैं। सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन की कथा अनकही एक ऐसी महिला का शक्तिशाली चित्रण प्रस्तुत करती है जो सामाजिक अपेक्षाओं को पार करती है। एक कार दुर्घटना में अपने पति की दिल दहला देने वाली हानि के बावजूद, कथा एक माँ और रक्षक के रूप में अपनी भूमिका निभाती है। अदिति शर्मा का चरित्र इस कहानी में गहराई और प्रामाणिकता को पेश करता है, जिससे दर्शक भावनात्मक रूप से उसकी यात्रा से जुड़ सकते हैं। आप इस शो को मिस नहीं करना चाहेंगे, जिसकी स्ट्रीमिंग अब SonyLIV पर हो रही है।

अपराजिता – मैं हूं अपराजिता में श्वेता तिवारी का अपराजिता का किरदार प्रतिकूल परिस्थितियों में एक महिला की भावनाओं को पेश करता एक शक्तिशाली उदाहरण है। ज़ी टीवी पर प्रस्तुत  फॅमिली ड्रामा एक ऐसी महिला के इर्द गिर्द घूमता है, जो उसके पति अक्षय द्वारा छोड़े जाने के बाद जीवन की कठिनाइयों का सामना करती है। अपनी तीन बेटियों को अकेले पालने की ज़िम्मेदारी उठाने के लिए छोड़ दी गई, अपराजिता न सिर्फ अपने बच्चों का सपोर्टिंग पिलर बनीं बल्कि उनकी प्रेरणा स्रोत भी बनी। अपराजिता की यात्रा सशक्तिकरण की है, क्योंकि वह समाज की न्यायिक दृष्टि से ऊपर उठती है और यह साबित करती है कि एक महिला सबसे कठिन परिस्थितियों में भी आगे बढ़ सकती है। दर्शक अब ZEE5 के साथ कभी भी और कहीं भी इस प्रेरक कहानी का अनुभव कर सकते हैं।

भावना – स्टार भारत पर दिल को छू लेने वाले ड्रामा सीरीज “आशाओं का सवेरा धीरे धीरे से” में रीना कपूर, भावना का किरदार निभा रही हैं जो एक विधवा महिलाओं का कहानी को बयां करता है जो समाज और अपने ही परिवार द्वारा दिए है कई दर्द से गुजरती हैं। शो में भावना का जीवन अपने पति की मृत्यु के बाद एक दुखद मोड़ लेता है, जिससे वह असुरक्षित स्थिति में आ जाती है और अपने दिन-प्रतिदिन के अस्तित्व को बनाए रखने के लिए संघर्ष करती है। जीवन की कठोर वास्तविकताओं का सामना करते हुए वो एक मजबूत, स्वतंत्र महिला के रूप में उभरकर आती है। दर्शक भावना के सशक्तिकरण के सफर को भी देख कर सकते हैं क्योंकि यह शो डिज्नी+हॉटस्टार पर स्ट्रीम करने के लिए उपलब्ध है।

मन को दुखी कर देने वाली कहानियों के साथ, व्यक्तिगत परीक्षणों से गुजरने और सामाजिक पूर्वाग्रहों को निडरता से चुनौती देने तक, यह निडर महिलाएं, महिला सशक्तिकरण का एक खरा उदाहरण पेश कर रही हैं, जो दर्शकों को बाधाओं पर विजय पाने और अपनी नियति बनाने को लेकर हमें प्रेरणा देती हैं। टेलीविजन में इस उल्लेखनीय विकास के साथ, प्रमुख महिलाएं अब रोमांटिक कहानियों तक ही सीमित नहीं हैं। चलिए हम इनकी कहानियों को देखना और इनसे प्रेरित होना जारी रखें।