गुम है किसी के प्यार में 19 फरवरी 2021 रिटेन अपडेट : घरवालों ने साई की वापसी पर ताने मारे!

गुम है किसी के प्यार में रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

साईं घर लौटती है। भवानी उसे रोकती है और पूछती है कि वह इतनी चुप क्यों है। अश्विनी पूछती है कि उसका लंच कैसा था? साई ने बताया कि उसने लंच नहीं किया है। अश्विनी उससे पूछती है कि क्या वह ठीक है? निनाद बताता है कि अश्विनी को थप्पड़ मारे बिना समझ नहीं आएगा। साईं बताती है कि निनाद ने अश्विनी से इस तरह बात करने की हिम्मत कैसे की? ओमकार साईं को निनाद के साथ अनादर के साथ बात नहीं करने के लिए कहता है। भवानी और सोनाली ने साईं का अपमान करना जारी रखा। अश्विनी, साईं को उन्हें अनदेखा करने के लिए कहती है और पूछती है कि उसने दोपहर का भोजन क्यों नहीं किया? सोनाली, अश्विनी से कहती है कि ऐसा लगता है कि वह दूसरों का अनादर करने में साई का समर्थन करती है। साईं ने सोनाली को कहा कि वह अश्विनी से छोटी है इसलिए उसे सलाह क्यों दे रही है? करिश्मा बताती है कि वह साईं से बड़ी है इसलिए वह उससे पूछ सकती है कि वह सोनाली से इस तरह क्यों बात कर रही है? निनाद बताता है कि साईं के सभी गलत कामों के लिए अश्विनी जिम्मेदार है। भवानी बताती है कि साईं को चव्हाण परिवार का आभारी होना चाहिए। साईं ने बताया कि वे उसे कॉलेज जाने से रोकने वाले थे।

साई कहती है कि एक बार मुझे मेरी छात्रवृत्ति का पैसा मिल जाएगा तो मैं इसे विराट सर को वापस कर दूंगी। पाखी भवानी से उसे उसके घर वापस भेजने को कहती है क्योंकि वह अब यह सब झगड़ा नहीं कर सकती। उषा साई को उसके कमरे में जाने के लिए कहती है। पाखी कहती है साईं तुम इस घर की सारी लड़ाई का कारण हो। साईं बताती है आज सबको मेरी वजह से मजा आया। जब विराट ने मुझे रोका तो उन्हें मजा आ रहा था। पाखी बताती है कि क्या तुम भूल रही हो कि मैंने विराट से तुम्हारा हाथ छोड़ने के लिए कहा था। वह साई से पूछती है कि क्या वह लंच करने गई थी या कुछ और? अश्विनी ने साई से कहा कि अब बहस करने की कोई जरूरत नहीं है। करिश्मा बताती है कि लंच के लिए जाना काम से बचने का एक बहाना था। ओमकार पूछता है कि उसने लंच क्यों नहीं किया? भवानी कहती है कि जब अश्विनी ने विराट से तुम्हे ड्रॉप करने के लिए कहा था तो तुमने उसे जाने क्यों नहीं दिया। हर कोई एक के बाद एक साईं पर सवालों की बौछार करता है।

पाखी ने बताया कि विराट ने अभी तक खाना नहीं छुआ है। अश्विनी बताती है कि अगर विराट को बुरा लगा तो वह उसे रोक सकता था लेकिन उसने वही किया जो उसने बचपन से अपने पिता से सीखा था। सोनाली, अश्विनी को ओमकार के बारे में कुछ भी नहीं कहती के लिए कहती है। पाखी बताती है कि हम सभी को सिरदर्द है, क्योंकि तुम रोज सीन बनाती रहती हो। विराट ने बताया कि साई को आज भोजन नहीं मिलेगा। वह कहता है कि यह एक घर है, एक होटल नहीं, जिसमें उसे जब चाहे तब खाना मिलेगा। अश्विनी ने विराट से कहा कि तुम साईं को भोजन करने से कैसे रोक सकते हो। पाखी ने विराट को साईं को माफ करने और उसे अपने हाथों से खिलाने का ताना दिया। विराट, अश्विनी को साईं के लिए खाना लाने से रोकता है। अश्विनी बताती है कि वह सुबह से भूखी है और उसके सिर में दर्द हो रहा है। उषा कहती है विराट तुम आज ठीक नहीं कर रहे हो। साई कहती है कि मुझे नहीं पता था कि मैंने इस घर को एक होटल बना दिया है, लेकिन अगर यह एक होटल था, तो मुझे स्वतंत्रता होनी चाहिए थी।

साईं बताती है कि मैं आज के बाद इस घर में नहीं खाऊंगी। मैं अपने भोजन की व्यवस्था स्वंय करूंगी। वह ऊषा को पैसे देती है और उसे रेस्तरां से सभी के लिए खाना लाने के लिए कहती है। विराट ने उषा से कहीं नहीं जाने को कहा। वह बताता है कि क्या तुम भूल रही हो कि यह पैसे तुम्हे किसने दिए? यह मेरे पैसे हैं, इसलिए फैसला मेरा होगा। अश्विनी, विराट को बोलने से पहले कम से कम एक बार सोचने के लिए कहती है। भवानी ने विराट को सही बताया। साईं ने विराट को उसके द्वारा दिए गए सारे पैसे लौटा दिए। वह उसे अपने पैसे अपने पास रखने के लिए कहती है, वह बताती है कि मैंने आपसे यह पैसे उधार लिए थे और मुझे नहीं पता था कि पैसा उधार देने वाला तय करता है कि मैं अपना पैसा कहां खर्च करूं, अन्यथा मैंने कभी इसे स्वीकार नहीं किया होता। साईं बताती है कि उसे दो दिनों में उसकी छात्रवृत्ति के पैसे मिल जाएंगे, और तब तक वह इस घर में भोजन नहीं करेगी।