गुम है किसी के प्यार में 11 जून 2021 रिटेन अपडेट : साईं पर भड़का विराट!

गुम है किसी के प्यार में रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

एपिसोड की शुरुआत भवानी के पाखी का पक्ष लेने से होती है। वह कहती है कि साईं परेशान करने वाली है और कैसे उसने एक साधारण सी बात को एक बड़ा मुद्दा बना दिया। वह हमेशा घर छोड़ने की बात करती है लेकिन कभी नहीं जाती। जबकि पाखी चव्हाण परिवार की इज्जत बचाने के लिए उनके साथ रह रही है। वह सम्राट के बिना रह रही है। विराट लगभग अपना आपा खो बैठता है पर अपने गुस्से पर काबू करता है। साईं देवयानी से मिलती है और वह उसे खुशी से गले लगा लेती है।

देवयानी पूछती है कि वह दुखी क्यों है? पुलकित कहती है कि साईं ने सुबह से कुछ भी नहीं खाया है। साई परेशान दिखती है और देवयानी उसे खुश करती है। पुलकित ने साईं को कुछ खाने के लिए कहा और आज रात अपने घर में रहने के लिए भी कहा। पुलकित कहता है कि वह विराट को सूचित कर देगा कि वह यहाँ है। साई यह कहते हुए फोन छीन लेती है कि उसे हमेशा अपने पति से अनुमति की आवश्यकता क्यों है। वह उसके माता -पिता नहीं हैं। अगर विराट को उसकी परवाह है तो वह खुद ही पता लगा लेगा। भवानी साईं के बारे में बकवास बातें करती रहती है कि अश्विनी हमेशा साईं का यह कहकर समर्थन करती है कि वह शिक्षित है। लेकिन पाखी भी कम नहीं है। वह भी इसी सम्मान की पात्र है।

भवानी विराट और पाखी से एक साथ खाना खाने के लिए कहती है। यह सुनकर विराट चौंक जाता है। पाखी भवानी से जबरदस्ती ना करने के लिए कहती है। वह कहती है कि वह अपने मायके जाना चाहती है। यहां उसका दम घुटता है। विराट साई की ओर से पाखी से माफी मांगता है और उसे रहने के लिए कहता है। पाखी कहती है कि क्या वह साईं का पति होने के नाते सॉरी कह रहा है? विराट कहता है कि साई यहां नहीं है, इसलिए वह सॉरी कह रहा है। पाखी कहती है कि यह उसकी गलत सोच है क्योंकि साईं उससे कभी माफी नहीं मांगेगी।

भवानी कहती है कि पाखी नहीं खाएगी इसलिए अगर विराट उसकी कंपनी देता है तो वह खा लेगी। विराट कहता है कि उसे भूख नहीं है। भवानी कहती है कि विराट को सभी गलतफहमी को दूर करने के लिए पाखी को अपने हाथों से खिलाना चाहिए। पाखी कहती है कि कोई जरूरत नहीं है, वह खा लेगी। भवानी कहती है कि विराट को चीजों को ठीक करना होगा, और पाखी के साथ खाना होगा। विराट को पुलकित का फोन आता है। पुलकित कहता है कि साई आज रात उसके घर में रहेगी।

विराट नाराज हो जाता है और कहता है कि साईं इतनी गैरजिम्मेदार कैसे हो सकती है और दूसरों को बताए बिना चली गई। पुलकित कहता है कि साई ने मुझे तुम्हे फोन करने के लिए नहीं कहा था, लेकिन मुझे लगा कि तुम्हे उसकी चिंता हो रही होगी। वह पूछता है कि साईं की उदासी का कारण क्या है। विराट कहता है कि संदेह को दूर करने के लिए साईं को यहां रहने की जरूरत है, वह मेहमान के घर नहीं जा सकती है या नहीं रह सकती है। अश्विनी प्रवेश करती है। भवानी साईं पर आरोप लगाने लगती है कि वह फिर चली गई और उसने अपने पति को भी नहीं बताया। अश्विनी सोचती है कि साईं फिर से वापस नहीं आएगी।

भवानी कहती है कि साई हमेशा लापरवाह रही है और उसने पुलकित को फोन करने के लिए कहा। वह पुलकित को भी बुरा बोलती है। विराट कहता है कि साई ने पुलकित को मुझे फोन करने के लिए नहीं कहा, लेकिन उसने किया। भवानी कहती है कि साईं ने अपने ही पति को बताकर कोई अहसान नहीं किया। साई ने पाखी और विराट की बातचीत को याद किया। वह मायूस हो जाती है। पुलकित और माधुरी साईं को डिनर खाने के लिए कहते हैं। साई इनकार करती है। हरिणी आती है और उसे देखकर खुश हो जाती है। वह पूछती है कि विराट उसके साथ क्यों नहीं आया। वह साईं को अपनी विशेष ड्राइंग दिखाती है जहां विराट, साई और हरिनी एक साथ दिखाई देते हैं।

हरिणी भी साईं से कुछ खाने का अनुरोध करती है क्योंकि किसी को भोजन पर गुस्सा नहीं निकालना चाहिए। साई अश्विनी को याद करती है और सहमत हो जाती है। भवानी ने यह कहते हुए रात का खाना खाने से मना कर दिया कि वह इन सब नाटकों के बाद जहर पीना चाहेगी। करिश्मा कहती है कि इस ड्रामे की वजह से वह भी भूखी है। अश्विनी को साई का फोन आता है और वह आराम महसूस करती है। साईं उसे चिंता न करने के लिए कहती है। भवानी यह सोचकर चिढ़ जाती है कि साईं को सबसे बड़े सदस्य को फोन करना चाहिए था, जो अश्विनी नहीं है। सोनाली कहती है कि साई जानबूझकर ऐसा करके आपको नीचा दिखाने की कोशिश कर रही है। भवानी साई को आजादी देने के लिए अश्विनी पर आरोप लगाती है।

अश्विनी साई से कहती है कि उसने विराट को सूचित क्यों नहीं किया। साई कहती है कि वह नहीं करेगी, वह गलत नहीं है, विराट ने खुद ही कमरा छोड़ दिया लेकिन सभी ने उसे दोषी ठहराया। उसकी भावनाओं को कोई क्यों नहीं समझ पाता। वह कहती है कि वह विराट से नाराज है। अश्विनी ने साई से अनुरोध किया कि वह कम से कम विराट को माफ करने की कोशिश करे।

प्रीकैप- विराट साई के लिए चिंतित होता है। पाखी सनी और विराट की बातें सुन लेती है। सनी कहता है कि साईं विराट से प्यार करने लगी है।