गुम है किसी के प्यार में 20 फरवरी 2021 रिटेन अपडेट : साईं ने लिया चोंकाने वाला फैसला!

गुम है किसी के प्यार में रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

साई कहती है कि जब तक उसकी छात्रवृत्ति का पैसा नहीं आ जाता, तब तक वह इस घर में खाना नहीं खाएगी। निनाद कहता है कि जब कोई गलती करता है तो उसे दंडित होना पड़ता है। मोहित विराट को बताता है कि साईं के साथ जो कुछ भी हो रहा है वह गलत है। साईं मोहित से उसकी चिंता नहीं करने के लिए कहती है, वह बताती है कि वह बुरा नहीं मान रही है क्योंकि वह इस परिवार की सदस्य नहीं है। मोहित बताता है कि तुम मेरी छोटी बहन की तरह हो, तुमने उस दिन मुझे खाना खिलाया था और आज तुम्हारे साथ भी ऐसा ही हो रहा है। मैं अपने कमाए हुए पैसों से तुम्हारे लिए भोजन लाऊंगा, इस पर किसी का अधिकार नहीं है। सोनाली मोहित से ऐसा न करने के लिए कहती है। मोहित बताता है कि उसे कोई परवाह नहीं है कि कौन बुरा महसूस करेगा, वह साईं के लिए खाना लाने जा रहा है। मोहित ने विराट को बताया कि एक आईपीएस अधिकारी बनने और पढ़ाई करने का क्या फायदा है जब वह एक अच्छा इंसान भी नहीं बन सकता।

विराट ने मोहित से कहा कि वह आज साईं के लिए खाना न लाए। मोहित बताता है कि आज उसे कोई नहीं रोक सकता। साईं बताती है कि कोई तो है जो उसकी परवाह करता है और रोने लगती है। भवानी ने बताया कि आज मैं इतने दिनों के बाद शांति से भोजन करूंगी, मैंने कहा था कि वह दिन दूर नहीं जब विराट साईं के खिलाफ खड़ा होगा। निनाद बताता है कि साई के साथ बात करना भी एक समस्या है। पाखी विराट से कहती है कि शायद आज वो साईं के खिलाफ खड़ा है, लेकिन वे कल फिर से पैच अप कर लेंगे। सोनाली बताती है कि आज की लड़ाई की आग जल्द बुझने वाली नहीं है। पाखी बताती है कि वह भूखी नहीं है। करिश्मा ने पाखी को बताया कि जब सुबह से विराट ने खाना नहीं खाया है तो वह कैसे खा सकती है। भवानी पाखी की प्रशंसा करती है और उसके लिए भगवान से प्रार्थना करती है। देवयानी साई को अपनी चॉकलेट देती है। देवयानी बताती है कि तुम मेरे पति का नाम जानती हो, कृपया उसे या मुझे कोई नुकसान मत पहुंचाना।

साईं कहती है मैं आपके लिए खुशी लाना चाहती हूं लेकिन मेरी उम्मीद खत्म हो गई है। साईं देवयानी से पूछती है कि आपको किसने बताया कि पुलकित शादीशुदा है। देवयानी बताती है कि भवानी ने मुझे बताया और निनाद ने उसे बहुत पीटा था। निनाद देवयानी को साईं से बात नहीं करने के लिए कहता है और उसे अपने कमरे में लौटने के लिए कहता है। साई सोचती है कि पुलकित का छोटा सुखी परिवार है। विराट ने साईं को उसके पैसे सौंपते हुए याद किया, वह साई को लंच के लिए बाहर ले जाना चाहता था, लेकिन अब वह उसे कभी माफ नहीं कर सकता। पाखी विराट के लिए खाना लाती है, वह कहता है कि तुम मेरे लिए बार-बार खाना क्यों ला रही हो। वह उसे कुछ समय के लिए उसे अकेला छोड़ने के लिए कहता है। अश्विनी ने पाखी से कहा कि वह किसी और के पति पर नजर रखने के बजाय अपने पति की वापसी के लिए प्रार्थना करे।

अश्विनी ने विराट को बताया कि उसने आज साई के साथ दुर्व्यवहार किया। वह बताती है कि साई अभी भी बच्ची है लेकिन तुम समझदार हो। तुमने उसका हाथ पकड़ लिया, मैंने तुमसे कभी इतने बुरे व्यवहार की उम्मीद नहीं की थी। तुम अपने आप को इसके लिए कैसे क्षमा करोगे? अश्विनी कहती है कि मैं नहीं कह रही हूं कि साईं सही थी लेकिन क्या तुम निश्चित रूप से सही थे। वह बताती है कि आज तुमने उसे महसूस कराया कि उसके पास जो पैसे है वह तुम्हारे हैं। विराट बताता है कि वह जिद्द कर रही थी और मुझे गुस्सा आ गया। अश्विनी बताती है कि साई के बारे में क्या उसे गुस्सा नहीं आता? वह बताती है कि मैं नहीं चाहती कि वह आज प्रोफेसर के पास जाए लेकिन वह गुस्सा हो सकती थी। विराट बताता है कि मैं उसके बारे में चिंतित था, मुझे उस प्रोफेसर के बारे में कुछ नहीं पता था।

अश्विनी ने बताया कि साई अच्छे और बुरे में अंतर करना जानती है और इसीलिए वह उससे मिलने के लिए तैयार हो गई। अश्विनी ने बताया कि साईं ने तुम्हे पाखी के साथ लद्दाख जाने को कहा और जब उसने यात्रा रद्द कर दी तो उसने पाखी को क्षमा भी कर दिया। उसने पाखी से कुछ नहीं पूछा और न ही उसने तुमसे कुछ पूछा। विराट सोचता है कि अाई शायद सही हैं, मैंने बहुत ज़्यादा कह दिया। साईं ने अपने पिता को बताया कि आज मैंने विराट सर को बताया कि शायद वह आपके अंतिम शब्दों के बारे में झूठ बोल रहे हैं, लेकिन मुझे पता है कि आपने उन्हे बताया होगा, लेकिन मैं अब इसे छोड़ने वाली हूं। उसने आज जो किया उसके लिए मैं विराट को कभी माफ़ नहीं करने वाली। कृपया मुझे अपना और उषा मौसी का ध्यान रखने का आशीर्वाद दें।

साई ने उषा को बताया कि, मोहित ने मुझे बताया कि वह अपने परिवार के सदस्यों को जवाब नहीं दे सकता, लेकिन आज उसने मेरे लिए सभी के साथ लड़ाई की। साईं एक निवाला लेती है और बताती है कि वह और नहीं खा सकती है। वह उषा से कहती है कि वह उनका सामान पैक कर ले, हम इस घर को छोड़ रहे हैं। विराट उसकी बात सुनकर पूछता है कि वह कहां जा रही है।

प्रीकैप – विराट ने साईं से कहा कि वह पूछना चाहता है कि क्या उसका हाथ दर्द कर रहा है। साईं बताती है कि वह उस घर में नहीं रह सकती जहाँ उसके पिता और उनकी शिक्षाओं का बार-बार अपमान किया जाता है।