कुंडली भाग्य 27 जुलाई 2020 रिटेन अपडेट: प्रीता करण के व्यवहार को देखकर चौंकी!

कुंडली भाग्य रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

एपिसोड की शुरुआत जानकी से होती है जो काम ठीक से नहीं करने के लिए सृष्टि को डांटती है। प्रीता चुपचाप काम करती रहती है, सृष्टि ने ये नोटिस किया। सृष्टि ने प्रीता को यह कहते हुए आराम करने के लिए कहा कि वह लंबे समय से काम कर रही है। वह उसे बेहतर महसूस करने के लिए टीवी देखने के लिए कहती है। प्रीता पूछती है कि उसे टीवी क्यों देखना चाहिए। सृष्टि का कहना है कि प्रीता को अपने दिमाग को दूसरी चीज़ो मे व्यस्त करने की जरूरत है । प्रीता कहती है कि इसकी कोई जरूरत नहीं है। सृष्टि कहती है कि वह जानती है कि अब प्रीता करण के बारे में सोच रही है। प्रीता कहती है कि वह उसके बारे में नहीं सोच रही है जिसपर सृष्टि गुस्सा हो जाती है।

प्रीता सृष्टि से सहमत है कि वह उसके बारे में सोच रही थी लेकिन वह बुरे दिल वाला व्यक्ति है और वह उस तरह के व्यक्ति से नफरत करती है इसलिए वह उससे दोबारा नहीं मिलना चाहती। सरला उसकी बात सुनती है और कहती है कि प्रीता सही कह रही है कि करण अच्छा लड़का नहीं है और वह उसे हमेशा ये समझाना चाहती थी लेकिन उसे खुशी है कि वह आखिरकार उसे समझ गई। प्रीता कहती है कि अब करण उसके लिए मायने नहीं रखता और सरला को खुश होने के लिए कहती है। सरला कहती हैं कि सृष्टि ने सही सब्जियां नहीं खरीदीं, इसलिए वह उन्हें खरीदने के लिए बाजार जा रही हैं।

Also, Read :-

प्रीता अपने कमरे में जाती है और कहती है कि वह करण के बारे में नहीं सोचना चाहती है लेकिन उसके विचार उसके दिमाग में आते रहते हैं। सृष्टि ने जानकी को बताया कि यह बहुत अजीब है कि प्रीता और सरला इस तरह से अभिनय कर रहे हैं जैसे वे इस स्थिति में सामान्य हैं। वह कहती है कि उसे लगता है कि सब कुछ ठीक हो रहा है। जानकी कहती है कि ऐसा कुछ नहीं होने वाला है। सृष्टि का कहना है कि अगर करण को अपने जीवन में प्रीता की अहमियत का एहसास है तो वह खुद प्रीता को लाने आएगा। वह कहती है कि करण को अपना अहंकार अलग रखना चाहिए और उसे वही करना चाहिए जो उसका दिल उसे करने के लिए कहता है। करण अरोड़ा के घर आता है और सृष्टि से पूछता है कि प्रीता कहां है। प्रीता उसकी आवाज़ सुनकर बाहर आती है और वे एक-दूसरे को दर्द से घूरते हैं और वे उन क्षणों को याद करते हैं जो उन्होंने एक-दूसरे के साथ साझा किए थे।

करण प्रीता का हाथ पकड़ता है और उसे अपने साथ ले जाने की कोशिश करता है। वह कहती है कि वह उसके साथ तब तक नहीं जाएगी जब तक वह यह नहीं कहता कि वह उसे कहां ले जा रहा है। करण का कहना है कि वह उसे अपने घर ले जा रहा है। सृष्टि को लगता है कि करण को उसकी भावना का अहसास हो गया है और वो खुश होती है। प्रीता पूछती है कि वह उसे अपने घर क्यों ले जा रहा है। करण का कहना है कि वह माहिरा से शादी करने जा रहा है और प्रीता को उसकी शादी का गवाह बनना चाहिए। वह कहता है कि हर कोई सोचता है कि वह उसे खोने से डरता है लेकिन उन्हें गलत साबित करने के लिए वह ऐसा कर रहा है। उनका कहना है कि प्रीता उनकी पत्नी बनना चाहती है और इसीलिए माहिरा के साथ उसकी शादी तोड़ने की कोशिश कर रही है। वह कहती है कि वह गलत है। जानकी कहती है कि प्रीता उसके साथ उसके घर नहीं जाऐगी । करण कहता है कि प्रीता उसके साथ ज़रूर जाएगी क्योंकि यह एकमात्र तरीका है जिससे वह साबित कर सकता है कि उसके दिल में प्रीता के लिए कोई जगह नहीं है। वह सृष्टि को प्रीता को शादी मे लाने के लिये कहता है और वहां से चला जाता है।

प्रीता अपने कमरे में जाती है और रोती है। सृष्टि कहती हैं कि उन्हें अब प्रीता को संभालना है और प्रीता से दरवाजा खोलने के लिए कहती हैं। बाजार में एक चोर ने सरला का पर्स उससे छीन लिया और वहां से भाग गया। करण उसको देखता है और उस चोर के पीछे भागता है। प्रीता याद करती है कि करण ने उसे कुछ मिनट पहले क्या बताया था। सृष्टि प्रीता के लिए चिंतित हो जाती है। प्रीता कहती है कि वह इस स्थिति को संभालने लेगी। वह कहती है कि उसका दिमाग कुछ समय से काम नहीं कर रहा था, इसलिए वह अकेली रहना चाहती थी। वह कहती है कि उसे यह पसंद नहीं है जब सृष्टि उसके लिए रोती है और कहती है कि करण उतना महत्वपूर्ण नहीं है। वह दादी को कुछ भी नहीं बताने के लिए कहती है । जानकी कहती है वह नहीं बताएगी।(एपिसोड समाप्त)