पंड्या स्टोर अपडेट: श्वेता और कृष के शादी के फैसले से धारा और पंड्या परिवार में आयेगा एक बड़ा तूफान!

पंड्या स्टोर रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

एपिसोड की शुरुआत श्वेता के कृष से शादी करने के लिए सहमत होने से होती है। धारा कृष और श्वेता के हाथों को जोड़ती है। कृष सोचता है कि श्वेता से शादी करने के लिए उसके पास एक कारण है, लेकिन उसने अपना फैसला क्यों बदल दिया। सुमन श्वेता से पूछती है कि उसने अपना फैसला क्यों बदला। वह कृष और श्वेता के हाथ अलग करती है। वह कहती है कि यह शादी नहीं होगी। वह पटेलों को उनकी बेटी और नाती को लेकर जाने के लिए कहती है। वह कृष से श्वेता का सामान उनकी कार के अंदर रखने के लिए कहती है और उन्हें भेजने कहती है। श्वेता कल्पना करती है कि उसके माता-पिता उसे घर से बाहर निकाल देंगे। अगर कृष उसे बाहर निकाल देता है तो वह अपने माता-पिता की संपत्ति खोने से डरती है।

   

फिर वह अपना नाटक शुरू करती है। वह कहती है कि वह कृष से प्यार नहीं करती है, इसलिए उसने उससे शादी करने से इनकार कर दिया, लेकिन उसने अपने घर छोड़ने के बाद रिश्तों की कीमत सीखी है। ऋषिता श्वेता की बात मानने से इंकार कर देती है और उसका मजाक उड़ाती है। श्वेता कहती है कि उसके माता-पिता ने उसे एहसास दिलाया कि वे उसके जीवन में कितने महत्वपूर्ण हैं। वह कहती है कि उसे उनके प्यार की आदत हो गई है और वह उनके बिना नहीं रह सकती। वह घड़ियाली आंसू बहाती है।

ऋषिता सोचती है कि श्वेता बेहतरीन एक्टिंग कर रही है। श्वेता के माता-पिता भी ऐसा ही सोचते हैं। श्वेता मेलोड्रामा कर सुमन को समझाने की कोशिश करती है। ऋषिता देव को एक तरफ ले जाती है। वह देव के मन को बदलने की कोशिश करती है, लेकिन व्यर्थ जाता है।


ऋषिता सुमन से कहती है कि श्वेता के मेलोड्रामा पर विश्वास न करे, वह अभिनय कर रही है। धारा ने सुमन से अपनी स्वीकृति देने का अनुरोध किया। सुमन अपने फैसले पर अडिग रहती है। श्वेता पांड्या भाइयों से सुमन को मनाने की विनती करती है। वह फिर से अपना मेलोड्रामा शुरू करती है। वह कहती है कि वह पंड्या के परिवार की बहू बनना चाहती है ताकि चीकू को एक परिवार, उनका प्यार और उनके संस्कार मिलें। वह सुमन को बरगलाने की कोशिश करती है।

श्वेता की माँ सुमन से कृष और श्वेता के विवाह प्रस्ताव को स्वीकार करने का अनुरोध करती है। सुमन श्वेता की मां पर चिल्लाती है और कृष के फैसले के लिए उसे दोषी ठहराती है। वह पूछती है कि क्या वह श्वेता जैसी लड़की से अपने बेटे की शादी करने के लिए राजी होगी। क्योंकि श्वेता की मां चुप रहती है। सुमन उन्हें बाहर निकलने के लिए कहती है। धारा सुमन से कृष को देखने के लिए कहती है। वह पूछती है कि क्या वह चाहती है कि कृष का दिल फिर से टूट जाए। वह सुमन से कृष की खुशी के लिए सहमत होने के लिए कहती है।

पांड्या भाई भी सुमन का मन बदलने की कोशिश करते हैं। सुमन क्रोधित हो जाती है और चिल्लाती है। धारा उसे शांत करती है और उसे कृष की भावनाओं को समझने के लिए कहती है। सुमन कहती है कि धारा चीकू के लिए कृष का साथ दे रही है। वह दृढ़ता से कहती है कि न तो श्वेता और न ही चीकू इस घर में रहेगा। श्वेता फिर से अपना ड्रामा शुरू करती है। वह धारा का बचाव करती है। वह कहती है कि वह धारा को चीकू देना चाहती है, लेकिन चीकू के लिए उसका मातृ प्रेम उसे रोकता है। वह कहती है कि वह उसके फैसले को समझती है, इसलिए वह जा रही है।

ऋषिता कहती है, ग्रेट। वह धारा को गले लगाती है। धारा चीकू को देखकर रोती है और श्वेता से उसकी देखभाल करने को कहती है। श्वेता ने कृष से माफी मांगी। वह कहती है कि उसने समझाने की कोशिश की, लेकिन वह अडिग है। वह चाहती थी कि कृष को एक अच्छी जीवनसाथी मिले। वह मुस्कुराते हुए जाने लगती है, कि शुक्र है कि सुमन नहीं मानी। कृष श्वेता को रोकता है।

प्रीकैप: कृष ने मंदिर में तुरंत श्वेता से शादी करने का फैसला किया। सुमन ने धमकी दी कि अगर वह श्वेता से शादी करता है तो वह उसे घर से निकाल देगी और उससे सारे रिश्ते तोड़ देगी।