ये रिश्ता क्या कहलाता है अपडेट: अभीर को कोर्ट में देख अक्षरा शॉक्ड, अभिमन्यु ने बचाया अभीर को!

ये रिश्ता क्या कहलाता है रिटेन अपडेट, स्पॉइलर, अपकमिंग स्टोरी, लेटेस्ट न्यूज, गॉसिप एंड अपकमिंग एपिसोड

आज के एपिसोड में, अभीर सुहासिनी से पूछता है कि क्या ध्यान करने से भगवान प्रार्थना जल्दी सुनते हैं। सुहासिनी कहती है कि बच्चों को ध्यान करने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि भगवान बच्चों की स्वचालित रूप से सुनते हैं। अभीर सुहासिनी से पूछता है कि क्या भगवान उसे उसके माता-पिता से अलग नहीं करेंगे। सुहासिनी ने अभीर को आश्वासन दिया। अभीर, अक्षरा और अभिनव जाग जाते हैं। आरोही अभिमन्यु को खाना खाने में मदद करती है। अभिमन्यु कहता है कि वह इसे स्वयं कर सकता है। आरोही कहती है कि वह उसे कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं दे रही है। वह कहती है कि उसकी जगह अगर कोई और होता तो भी वह ऐसा ही करती। आरोही अभिमन्यु से खाना खाने के लिए कहती है। अभीर अक्षरा और अभिनव को खाना खिलाता है।

   

अभिमन्यु रोहन से पूछता है कि वह सर्जरी के लिए कैसे आ सकता है क्योंकि वह अदालत जा रहा है। आनंद रोहन से अभिमन्यु के मामलों को उसके और महिमा के पास भेजने के लिए कहता है। अभिमन्यु ने आनंद और महिमा को धन्यवाद दिया। रूही को देखकर अभीर खुश हो जाता है। अभीर और रूही बातचीत साझा करते हैं। अक्षरा आरोही से कहती है कि क्या वह उससे मिलने के लिए यहां नहीं आई है। आरोही और अक्षरा एक दूसरे को गले लगाते हैं। रूही अभीर को सांत्वना देती है। आरोही कायरव से बात करती है और कहती है कि सच्चाई सामने आने के बाद रूही और अभीर के बॉन्ड का क्या होगा। कायरव आरोही को सांत्वना देता है।

अभिमन्यु और अक्षरा आखिरी सुनवाई के लिए तैयार हो जाते हैं। अभीर अक्षरा के हाथ पर शुभ धागा बांधता है। वह चाहता था कि भगवान उसे उसके माता-पिता से अलग न करें। अक्षरा के पक्ष के वकील ने गोयनका से बात करने का फैसला किया। अक्षरा अभीर को मुस्कान के साथ जाकर पढ़ाई करने के लिए कहती है। अक्षरा के वकील ने उनसे बात की और कहा कि उन्हें हिरासत मिल जाएगी क्योंकि अदालत के पास दूसरे पक्ष को जिताने का कोई कारण नहीं है। अभिमन्यु के वकील ने बिड़ला से कहा कि जीतने की 50-50 संभावना है। अक्षरा के वकील ने उनसे आश्वस्त रहने के लिए कहा, लेकिन अति आत्मविश्वास में नहीं।

अभिमन्यु के वकील ने पूछा कि क्या उनके पास ऐसा कुछ है जो उनके मामले को मजबूत कर सके? मंजरी और अभिमन्यु स्तब्ध बैठे थे।

अभीर को घर पर अक्षरा का धागा गायब मिलता है। वह अदालत में जाने का फैसला करता है। अभिमन्यु अक्षरा की मदद करता है। वह उसे शांत होने के लिए कहता है। अक्षरा अभिमन्यु से कहती है कि प्रतिबद्धता के अनुसार वह अभीर से उसकी पहचान के बारे में कभी झूठ नहीं बोलेगी। वह अभिमन्यु से कहती है कि वह अभीर के साथ कसौली जा पाएगी। अभिमन्यु अक्षरा से पूछता है कि वह केस जीतने को लेकर इतनी आश्वस्त कैसे है। वह उससे अति आत्मविश्वासी न होने के लिए कहता है। अक्षरा और अभिमन्यु को अपने बच्चे की कस्टडी के लिए लड़ने पर दुर्भाग्यशाली माता-पिता होने का अफसोस होता है। वे एक-दूसरे के लिए शुभकामनाएं देते हैं।

कायरव और मुस्कान को पता चलता है कि अभीर गायब है। अभीर अदालत पहुंचता है और अक्षरा को शुभ धागा देने के लिए उसे ढूंढता है। अक्षरा और अभिमन्यु को अभीर की मौजूदगी का एहसास होता है। अभिमन्यु अभीर को एक दुर्घटना से बचाता है। अक्षरा और अभिनव को अभिमन्यु की चिंता होती है। [एपिसोड समाप्त]

प्रीकैप: कोर्ट ने अभीर की हिरासत अभिमन्यु को दे दी। अभिनव और अक्षरा स्तब्ध बैठे रहते हैं।